twitcker

Random

Social Share



Monday, January 11, 2016

कवि और कवि पत्नी

#rkbanshi

कवि:
हमें तो अपनों ने लूटा, ग़ैरों में कहाँ दम था।
हमारी कश्ती वहाँ डूबी, जहाँ पानी कम था।

कवि-पत्नी:
तुम तो थे ही गधे, तुम्हारे भेजे में कहाँ दम था?
वहाँ कश्ती ले के गए ही क्यों, जहाँ पानी कम
था?


#rkbanshi